About Us

आधुनिक कमरों का निर्माण (please click image)

बुन्देलखंड का एक प्रसिद्ध तीर्थ क्षेत्र सोनागिर जी जिसकी श्रद्धा देश में ही नहीं अपितु विदेश में भी रहने वाले जैन धर्मावलम्बियों में है | सोनागिर जी में भगवान चन्द्रप्रभु का समवशरण आया था और यहाँ से 1 करोड़ मुनि मोक्ष गये हैं | यह क्षेत्र रेलवे के नार्थ सेंट्रल रेलवे को जोड़ने वाली मुख्य लाइन से जुड़ा है तथा ग्वालियर झाँसी सड़क मार्ग से 5 किलोमीटर अन्दर स्थित है | यात्रियों के ठहरने के लिए शान्त एवं मनोहर वातावरण तेरापंथी कोठी में उपलब्ध है | ये धर्मशाला सोनागिर जी में प्रवेश करते ही नज़र आती है | यात्रियों के संख्या में लगातार वृद्धि को देखते हुए अत्याधुनिक कमरों का निर्माण प्रस्तोवित है | यहाँ आप अपने नाम से कमरा निर्माण करने में सहयोग दे सकते हैं, जिसकी सहयोग राशी एवं नियम आदि आपको अतिशीघ्र साईट पर उपलब्ध करवाए जावेंगे .............. Sonagir, a famous pilgrimage area of ​​Bundelkhand, whose faith is not only in the country, but also in the Jain religions living in foreign countries. There was a SAMAVSHARAN of Lord Chandraprabhu in Sonagir ji and 1 million MUNI have gone to moksha from here. This area is connected to the main line connecting the railway's SouthIndia and is located 5 kms from Gwalior Jhansi road. A quiet and pleasant atmosphere for travelers' stay is available in the Terapnthi Kothi. This Dharamsala is seen as entering into Sonagir ji. The construction of state-of-the-art rooms is offered in view of the continuous increase in the number of passengers. Here you can help in building a room with your name, whose support amount and rules will be made available to you on the site ...

story-1